अलादीन और जादुई चिराग की मनोरंजक जादुई कहानी

यह Jadui chirag ki kahani है हजारों साल पहले अरब के रेगिस्तान में  एक गांव था जहां पर अलादीन अपने पिताजी के साथ रहता था  अलादीन के पिता एक दर्जी थे अलादीन के पास एक प्यारा बन्दर था वह दिनभर अपने बंदर के साथ खेलता रहता था और कभी-कभी अपने पिताजी के काम में हाथ बटा दिया करता था 

पर एक दिन जब बरसात (rain) के मौसम में अलादीन के पिता बीमार हो गए और वह काफी समय तक बीमार रहे जिसकी वजह से कुछ समय बाद उनकी की मृत्यु (death) हो गई अब अलादीन और उसकी मां अकेले हो गए थे पर अलादीन बहुत ही ज्यादा बुद्धिमान (wise) था इसलिए उसने अपने पिताजी के छोटे से कार्यभार को खुद करने का निर्णय (decision) लिया और वह इस कार्य को बहुत अच्छे से कर रहा था

Aladdin ki kahani

कुछ महीनों बाद एक व्यक्ति अलादीन की दुकान पर आता है और  कहता है बेटा अलादीन मैं तुम्हारा चाचा हूं जिस समय तुम्हारे पिता की मृत्यु हुई उस समय हम बहुत दूर शहर में थे  जिसकी वजह से मैं नहीं आ सका पर मैं अभी तुम्हारी सहायता के लिए आया हू

Aladdin बहुत ज्यादा खुश होता है और  कहता है कि हां पिताजी ने बताया था कि मेरे चाचा बहुत दूर शहर (city) में रहते हैं अलादीन के चाचा कहते हैं  बेटा मैं ऐसी जगह जानता हूं जहां पर बहुत सारा खजाना है और अगर तुम मेरे साथ चलोगे तो मैं तुम्हें बहुत सारा खजाना दिला सकता हूं

Jadui chirag ki kahani

अलादीन खुशी-खुशी अपने चाचा के साथ चले जाता है अलादीन के चाचा के पास एक ऊंट होता है वे दोनों ऊंट पर बैठकर रेगिस्तान (desert) में लगभग 5 दिनों तक सफर करते हैं और उसके बाद वह कुछ पहाड़ों के बीच में पहुंच जाते हैं अलादीन के चाचा उसे ऊंट से उतरने के लिए कहते हैं और  वह दोनों उट से नीचे उतर जाते हैं

उसके बाद अलादीन के चाचा वहां पर कुछ mantra पढ़ने लगते हैं अलादीन को कुछ भी समझ नहीं आता पर कुछ समय बाद जमीन फटने लगती है और जमीन से एक बड़ा सा पहाड़ निकलता है जिसके ऊपर एक अंगूठी (Jadui chirag)  होती है अलादीन के चाचा कहते हैं बेटा तुम ये अंगूठी पहन लो यह तुम्हारी  सुरक्षा (safe) करेगा

अलादीन बहुत ज्यादा डर जाता है उसके जादूगर चाचा कहते हैं बेटा डरो मत अंगूठी पहन लो यह अंगूठी तुम्हारी सुरक्षा करेगा अलादीन सोचता है मेरे घर की स्थिति ऐसे ही बहुत ज्यादा खराब है और मैं अंगूठी को पहन लेता है 

Aladdin aur jadui chirag

उसके बाद अलादीन के चाचा फिर से जादुई मंत्र बोलते हैं और वह बड़ा पहाड़ वहां से हट जाता है और नीचे की ओर जाती हुई सीढ़िया (ladders) नजर आती है अलादीन के चाचा बोलते हैं बेटा तुम यहां से अंदर चले जाओ पर ध्यान रखना तुम यहां पर किसी भी चीज को हाथ नहीं लगाना है तुम्हें सीधे अंदर चले जाना है और तब तक चलना है जब तक तुम्हें एक चिराग ना दिखाई दे और तुम्हे चिराग से तेल (oil) निकलकर वापस आ जाना है

अलादीन डरता हुआ सीढ़ियों से नीचे चला जाता है और जब वह अंदर जाता है तो वह देखता है वहां तो सभी दीवारें सोने (gold) की हैं और वहां पर एक फल का पेड़ होता है जिस पर अंगूर और सेब (Apple) लटक रहे होते हैं अलादीन भूखा होता है तो वह सोचता है चलो यहां से सेब और अंगूर तोड़ कर खाया जाए पर जैसे ही वह सेब को तोड़ता है वह मणि में बदल जाता है और जैसे को अंगूर को तोड़ता है वह मोती (diamond) में बदल जाता है

अलादीन यह सब देखकर हैरान हो जाता है और वह बहुत सारे फल तोड़कर इकट्ठा कर लेता है  और सब हीरे मोती में बदल जाते हैं अब अलादीन सीधा चलता अंदर चले जाता है और सामने चिराग  (chirag) नजर आता है

Aladdin chirag

अलादीन जल्दी से जाता है और चिराग से तेल (oil) निकाल कर वापस आने लगता है और जैसे ही वह सीढियों  के पास पहुंचता है अलादीन के चाचा उससे चिराग मांगने लगते हैं  परा अलादीन समझ जाता है कि उसके चाचा उसके साथ धोखा (trick) कर रहे हैं और वह चिराग लेकर उसे अंदर ही छोड़ देंगे

इसलिए वह अपने चाचा को चिराग नहीं देता और अलादीन के चाचा गुस्सा (angry) होकर कुछ मंत्र पढ़ते हैं और बड़ा सा पहाड़ फिर से दरवाजे को बंद कर देता है और अलादीन अंदर फस जाता है वह सोचता है मैं क्या करूं और वह चिल्लाता मुझे घर जाना है घर जाना है

और वह चिल्लाते चिल्लाते हुए  जादुई अंगूठी (magic ring) को छू लेता है और जैसे वह जादुई अंगूठी को छूता है वह देखता है मैं तो अपने घर पर पहुंच गया है और घर के अंदर उसकी मां बहुत दिनों से रो (weep) रही हैं अलादीन की माँ जैसे ही अलादीन को देखती है वह दौड़ते हुए अलादीन के पास आती है और बोलती है बेटा इतने दिन तक तू कहा था

तो अलादीन हीरा और मोती से भरा थैला (bag)  माँ को दिखाता है और मां को सारी कहानी बताता है उसके बाद उसकी मां देखती हैं की चिराग तो बहुत ज्यादा पुराना हो गया है इसलिए जब  माँ  चिराग को साफ करने के लिए रगडती (RUB)  हैं तो अचानक से चिराग से एक जिन (demons) बाहर निकलता है

और कहता है हुकुम मेरे आका मैं आपका गुलाम हूं बोलो आपको क्या चाहिए

अलादीन और उसकी मां दोनों देख कर हैरान हो जाते हैं उन दोनों ने काफी दिनों से कुछ भी नहीं खाया था इसलिए वह स्वादिष्ट (tasty) खाना मंगवाने के लिए कहते हैं

जिन कहता है जो हुकुम मेरे आका

Aladdin ka chirag

उसके तुरंत बाद बहुत सारी थालियां (plates) और उन पर अलग-अलग तरह के लजीज खाना (tasty food) तैयार हो जाता है अलादीन और उसकी मां पेट भर कर खाते हैं और अलादीन कि मां थालियों (plates) को बाहर भेज देती है और उससे अपने घर का खर्चा चलाती है

अलादीन अपने बंदर के साथ बाजार में घूम (walk) रहा होता है तो वह एलान सुनता है कि राजकुमारी (queen) रानी यहां से गुजरने वाली है इसलिए बाजार खाली करने के लिए कहा जा रहा है  पर अलादीन बहुत ही चालाक होता है और वह वहीं पर छुप जाता है और देखता है कि राजकुमारी बहुत ही ज्यादा खूबसूरत हैं और उसी समय ठान लेता है कि मुझे राजकुमारी से ही शादी करनी है

उसके बाद दौड़ता हुआ घर पर जाता है मां से कहता हैं मां मुझे राजकुमारी से शादी (marriage) करनी है अलादीन की मां हंसते हुए कहती है कि बेटा वह एक राजकुमारी हैं तू उससे शादी नहीं कर सकता और अगर यह बात राजकुमारी के पिता महाराज को पता चली तो बहुत बड़ी मुसीबत हो जाएगी

पर अलादीन जिद्दी होता है और कहता है मां मुझे उसी से शादी करनी है आप मेरी शादी का प्रस्ताव (Proposal) लेकर जाओ और प्रस्ताव के तौर पर आप कुछ हीरे और जवाहरात (diamonds) लेते जाओ अलादीन की मां राजा के दरबार में जाती है और दरबारी अलादीन की मां को अंदर जाने से रोक देते हैं पर राजा देखना चाहते थे कि अलादीन की मां अपनी पोटली (bag) में क्या लाई है 

इसलिए अलादीन की मां को अंदर जाने की इजाजत दे दी जाती हैं अलादीन की मां अंदर जाते ही बोलती है कि मेरा बेटा आपकी बेटी से प्यार करता है और वह राजकुमारी से शादी करना चाहता है और प्रस्ताव के तौर पर हीरे जवाहरात दिखाती हैं राजा हंसते हुए कहते हैं कि तुम्हारा गरीब बेटा मेरी बेटी के लायक नहीं पर हीरे जवाहरात देखकर राजा खुश हो जाता है और कहता है हमने अपनी जिंदगी में आज तक इतने चमकते हुए हीरे जवाहरात नहीं देखें

Read also जादुई पेंसिल की कहानी

तो इसलिए हमारी एक शर्त (bat) है तुम अपने बेटे से बोलो कि 40 थाली भरकर यही हीरे जवाहरात लेकर सबसे महंगे कपड़े पहने हुए पहरेदार इसको लेकर आए अलादीन की मां बोलती हैं जी जरूर जनाब 

अलादीन की मां घर जाती है और अलादीन को महाराज की शर्त बताती है अलादीन बोलता है बस इतनी सी बात और aladdin chirag को रगड़ता है और जिन से शर्त पूरी करने के लिए कहता है जिन कहता है जो हुकम मेरे आका

और उसी समय 40 तालियां सोना (gold) जेवरात से भरा हुए सबसे महंगे कपड़े पहने हुए पहरेदारो (guards) के साथ सामने उपस्थित हो जाते हैं और उसके बाद अलादीन की मां नजराना लेकर राजा के पास जाती हैं राजा देखते ही खुश हो जाते हैं और बोलते हैं मैं अपनी बेटी की शादी आपके बेटे से करने के लिए तैयार हूं लेकिन तुम्हारे बेटे के पास कोई महल नहीं है उसके पास एक आलीशान (Plush) महल होना चाहिए

अलादीन की मां घर जाकर दूसरी शर्त (Bat) बताती है और aladdin chirag को उसी समय दोबारा से चिराग को रगड़ता है और एक बड़ा सा महल (palace) महाराज के महल से थोड़ा दूर बनवाता है और अपने महल से महराज के महल तक एक लाल रंग की कालीन (carpet) बिछवा देता है और खुद शाही कपड़े पहनकर और बहुत सुंदर घोड़े पर बैठकर महाराज के पास शादी का रिश्ता लेकर जाता है 

राजा यह सब देख कर बहुत खुश होता है और कहता है तुमने अपने आपको साबित (proved) कर दिया है तो तुम मेरी बेटी के लायक (able) हो और दोनों की शादी बहुत ही ज्यादा धूमधाम से कर दी जाती है और यह पूरे विश्व (world) में सभी लोगों को पता चल जाता है जिसके कारण यह बात अलादीन के जादूगर चाचा को भी पता चल जाती हैं और वह समझ जाते हैं कि अलादीन इतना अमीर चिराग के कारण ही हुआ है

और अलादीन के जादुई चाचा एक उपाय (plan) बनाते हैं वह बहुत सारे नए नए चमकते हुए चिराग लेकर महल के पास बेचने जाते हैं उस समय अलादीन महल में नहीं होता राजकुमारी देखती है कि घर में एक पुराना सा चिराग (jadui chirag) पड़ा हुआ है तो  वह Aladin ka chirag को नए चमकते हुए चिराग से बदल आती हैं

Read also  सोना देने वाली जादुई चप्पल की कहानी 

जादूगर चाचा उस पुराने चिराग को लेकर रगड़ता (rub) है और देखता है कि उस चिराग से जिन बाहर आ गया और समझ जाता है कि यही वह चिराग है और वह जिन से कहता है हुकुम मेरे आका (lord) मैं आपका गुलाम हूं बोलो आपको क्या चाहिए  जादूगर बोलता है तुम इस महल को उठाकर दूर रेगिस्तान में ले चलो जहां पर अलादीन ना पहुंच पाए

और पलक झपकते ही महल रानी के साथ गायब (Miss) हो जाता है महाराज यह सब देख कर बहुत ज्यादा हैरान (shocked_ हो जाते हैं और जब अलादीन वापस आता है तो उसे महाराज के दरबार में बुलाया जाता है महाराज अलादीन से कहते हैं अगर तुम हमारी बेटी को 4 दिनों के अंदर नहीं लाए तो मैं तुम्हें मार (kill) दूंगा

अलादीन बहुत ही ज्यादा उदास हो जाता है और वह 3 दिन तक पूरे रेगिस्तान में घूमता रहता है पर उसे रानी का कोई पता नहीं चलता तब उसे ध्यान आता है की उसे इस जादुई अंगूठी (magic ring) का सहारा लेना चाहिए और जैसे ही वो जादुई अंगूठी को छूता (touch) है रानी के महल तक पहुंच जाता है

अलादीन चुपके से खिड़कियों के द्वारा रानी के कमरे तक पहुंच जाता है और देखता है रानी अंदर उदास (sad) बैठी हुई है अलादीन अंदर जाता है और राजकुमारी अलादीन को पूरी कहानी (story) बता देती हैं उसके बाद अलादीन रानी को एक तरल (beverage) पदार्थ देता हैं और कहते हैं कि यह पदार्थ तुम जादुई चाचा के खाने में मिला देना जिससे वह बेहोश हो जायेगा 

जादुई चाचा जब महल (palace) में आता  हैं तब रानी कहती है महाराज मैंने आपके लिए बड़े प्यार से एक शरबत बनाया है जादुई चाचा खुशी-खुशी कहता है अगर आपने यह जहर भी बनाया होता तो मैं इसे खुशी-खुशी पी (drink) लेता और वह उस जाम को पी जाता है पीते ही जादुई चाचा बेहोश हो जाता है

अलादीन आता है और जादुई चाचा के जेब से चिराग निकालकर aladdin chirag को रगड़ता है जिन बाहर आता है और कहता है जो हुक्म मेरे आका चिराग के मालिक आप और मैं आपका गुलाम हु

Read also जंगल में जादुई घर की कहानी

अलादीन जिन से कहता है कि तुम इस क्रूर जादूगर (magician) को बहुत दूर छोड़ आओ और महल को वापस अपने इस्थान पर स्थापित (place) कर दो जिन ऐसा ही करता है और महल वापस अपने जगह पर आ जाता है सुल्तान (king) यह सब देखकर बहुत ज्यादा खुश होते हैं और अलादीन को अपना ताज हमेशा हमेशा के लिए दे देते हैं और अलादीन को राज्य का राजा घोषित कर दिया जाता है

और पूरे राज्य में धूमधाम से दावते (party) दी जाती हैं और राजा का स्वागत किया जाता है इस तरह अलादीन दुबारा से महाराज का विशवास जीत लेता है 

अगर आप यही कहानी video में देखना चाहते है तो निचे दी गयी विडियो को जरुर देखे

Leave a Comment